सोमवार, 13 सितंबर 2021

ट्रांसफॉर्मर का समानांतर संचालन

ट्रांसफॉर्मर का समानांतर संचालन


ट्रांसफॉर्मर के समानांतर संचालन की आवश्यकता क्यों है?


बड़े रेटेड विद्युत शक्ति ट्रांसफार्मर को स्थापित करने की तुलना में समानांतर में छोटे रेटेड ट्रांसफार्मर की संख्या को स्थापित करना किफायती है । इसके मुख्य रूप से निम्नलिखित फायदे हैं,

विद्युत शक्ति प्रणाली की दक्षता को अधिकतम करने के लिए :


आम तौर पर विद्युत शक्ति ट्रांसफार्मर पूर्ण भार पर अधिकतम दक्षता देता है। यदि हम समानांतर में ट्रांसफार्मर को  चलाते हैं , तो हम केवल उन ट्रांसफार्मर पर स्विच कर सकते हैं जो उस समय के लिए अपनी पूर्ण लोड रेटिंग के करीब चलकर कुल मांग की पूर्ति करे । 
जब लोड बढ़ता है, तो हम कुल मांग को पूरा करने के लिए समानांतर में जुड़े एक दूसरे ट्रांसफॉर्मर द्वारा स्विच  कर सकते हैं । इस तरह हम सिस्टम को अधिकतम दक्षता के साथ चला सकते हैं।


विद्युत शक्ति प्रणाली की उपलब्धता को अधिकतम करने के लिए :

यदि ट्रांसफार्मर की संख्या समानांतर में चलती है, तो हम रखरखाव के उद्देश्य से उनमें से किसी एक को बंद कर सकते हैं। सिस्टम में अन्य समानांतर ट्रांसफार्मर बिजली की पूरी रुकावट के बिना लोड को सप्लाई देते रहेगे ।

पावर सिस्टम की विश्वसनीयता को अधिकतम करने के लिए :


यदि समानांतर में चलने वाले ट्रांसफार्मर में से कोई एक अन्य समानांतर ट्रांसफार्मर की गलती के कारण ट्रिप हो जाता है, तो सिस्टम लोड को साझा करेगा, इसलिए यदि साझा लोड अन्य ट्रांसफार्मर नहीं बनाते हैं तो बिजली की आपूर्ति बाधित नहीं हो सकती है।

विद्युत शक्ति प्रणाली के लचीलेपन को अधिकतम करने के लिए :


बिजली व्यवस्था की भविष्य की मांग में वृद्धि या कमी की संभावना हमेशा बनी रहती है। यदि यह भविष्यवाणी की जाती है कि भविष्य में बिजली की मांग में वृद्धि होगी, तो अतिरिक्त मांग को पूरा करने के लिए सिस्टम में ट्रांसफॉर्मर को समानांतर में जोड़ने का प्रावधान होना चाहिए, क्योंकि यह भविष्यवाणी करके एक बड़ा रेटेड सिंगल ट्रांसफॉर्मर स्थापित करने के लिए व्यावसायिक दृष्टि से किफायती नहीं है। 

भविष्य की बढ़ती मांग के रूप में यह पैसे का अनावश्यक निवेश है। फिर से यदि भविष्य की मांग कम हो जाती है, तो पूंजी निवेश और उसकी वापसी को संतुलित करने के लिए समानांतर में चल रहे ट्रांसफार्मर को सिस्टम से हटाया जा सकता है।

ट्रांसफॉर्मर के समानांतर संचालन के लिए शर्तें


जब दो या दो से अधिक ट्रांसफार्मर समानांतर में चलते हैं, तो उन्हें संतोषजनक प्रदर्शन के लिए निम्नलिखित शर्तों को पूरा करना होगा। ट्रांसफार्मर के समानांतर संचालन के लिए ये शर्तें हैं ।


  1.  सभी ट्रांसफार्मरो का  वोल्टेज  अनुपात सामान हो ।
  2. समान प्रतिशत प्रतिबाधा।
  3. समान  ध्रुवता ।
  4. समान फेज  क्रम।

समान वोल्टता अनुपात 


यदि अलग-अलग वोल्टेज अनुपात के दो ट्रांसफार्मर एक ही प्राथमिक आपूर्ति वोल्टेज के समानांतर  में जुड़े हुए हैं, तो माध्यमिक वोल्टेज में अंतर होगा।
 अब मान लीजिए कि इन ट्रांसफॉर्मर का सेकेंडरी एक ही बस से जुड़ा है, सेकेंडरी के बीच एक सर्कुलेटिंग करंट होगा और इसलिए प्राइमरी के बीच भी। चूंकि ट्रांसफार्मर का आंतरिक प्रतिबाधा छोटा है, एक छोटा वोल्टेज अंतर पर्याप्त रूप से उच्च परिसंचारी धारा का कारण बन सकता है जिससे अनावश्यक अतिरिक्त I2R का  नुकसान हो सकता है।

समान प्रतिशत प्रतिबाधा

समानांतर में चल रहे दो ट्रांसफार्मर द्वारा साझा की गई धारा उनकी एमवीए रेटिंग के समानुपाती होनी चाहिए। फिर से, इन ट्रांसफॉर्मर द्वारा किया गया करंट उनके आंतरिक प्रतिबाधा के व्युत्क्रमानुपाती होता है। इन दो कथनों से यह कहा जा सकता है कि, समानांतर में चलने वाले ट्रांसफार्मर की प्रतिबाधा उनकी एमवीए रेटिंग के व्युत्क्रमानुपाती होती है। दूसरे शब्दों में, प्रतिबाधा का प्रतिशत प्रतिबाधा या प्रति इकाई मान समानांतर में चलने वाले सभी ट्रांसफार्मर के लिए समान होना चाहिए।

वही ध्रुवीयता  (Same Polarity)


समानांतर में चलने वाले सभी ट्रांसफार्मर की ध्रुवीयता एक समान होनी चाहिए अन्यथा विशाल परिसंचारी धारा जो ट्रांसफार्मर में प्रवाहित होती है लेकिन इन ट्रांसफार्मर से कोई भार नहीं पड़ेगा। ट्रांसफॉर्मर की ध्रुवता का अर्थ है सेकेंडरी में प्रेरित ईएमएफ की तात्कालिक दिशा। यदि दो ट्रांसफार्मर में प्रेरित सेकंड्री ईएमएफ की तात्कालिक दिशाएं एक दूसरे के विपरीत होती हैं, जब दोनों ट्रांसफार्मर को समान इनपुट शक्ति दी जाती है, तो ट्रांसफार्मर को विपरीत ध्रुवता में कहा जाता है। 
यदि दो ट्रांसफार्मर में प्रेरित सेकेंडरी ईएमएफ की तात्कालिक दिशा समान होती है, जब दोनों ट्रांसफार्मर को समान इनपुट शक्ति दी जाती है, तो ट्रांसफार्मर को समान ध्रुवता में कहा जाता है।

समान चरण अनुक्रम (Same Phase Sequence)


चरण अनुक्रम या क्रम जिसमें चरण अपने अधिकतम सकारात्मक वोल्टेज तक पहुंचते हैं, दो समानांतर ट्रांसफार्मर के लिए समान होना चाहिए। अन्यथा, चक्र के दौरान, चरणों की प्रत्येक जोड़ी शॉर्ट सर्किट हो जाएगी।

 ट्रांसफार्मर के समानांतर संचालन के लिए उपरोक्त शर्तों का सख्ती से पालन किया जाना चाहिए, लेकिन दो अलग-अलग ट्रांसफार्मर के पूरी तरह से समान प्रतिशत प्रतिबाधा को व्यावहारिक रूप से प्राप्त करना मुश्किल है, यही कारण है कि समानांतर में चलने वाले ट्रांसफार्मर में समान प्रतिशत प्रतिबाधा नहीं हो सकती है, लेकिन मान निकट होंगे यथासंभव।

गुरुवार, 11 मार्च 2021

क्या आप जानते है ? 1g यूरेनियम= ?कोयला


क्या आप जानते है ?

  विश्व का पहला पावर  प्लांट 1878  में इटली के बेभरिएन नगर में सिंगमुड स्कर्ट द्वारा डिजाइन किया गया था | इस पावर स्टेशन में 24 डायनेमो लगाए गए थे जो कि भाप इंजन चलित है


 सन 1882 ई.  में लंदन में पहला सार्वजनिक पावर हाउस स्थापित किया गया जिसे  एडिशन इलेक्ट्रिक लाइट स्टेशन का नाम दिया गया | जिसे महान थॉमस एडिसन एवं उनके सहयोगी एडवर्ल्ड जानसन द्वारा डिजाइन किया गया था 

  प्रथम जल विद्युत पावर प्लांट 1882 में अमेरिका में स्थापित किया गया था

   45 टन कोयले से जितना उष्मा उत्पन्न होगी उतनी उष्मा केवल 1 ग्राम यूरेनियम से  उत्पन्न हो सकती है

 

  विश्व का पहला नाभिकीय पावर प्लांट 1954 में यू०एस०एस०आर० में डॉक्टर एच०जे० भाभा द्वारा स्थापित किया गया था | भारत में भाभा आणविक रिसर्च सेंटर में नाभिकीय ऊर्जा से संबंधित खोज एवं अध्ययन किया जाता है 

 ◼️ ट्रांसफार्मर mcq

 ◼️Circuit Breaker क्या होता है और कितने प्रकार का होता है

 किसी पदार्थ में निहित उर्जा, उस पदार्थ के द्रव्यमान व प्रकाश के वेग के वर्ग के  गुणनफल के बराबर होती है


  विश्व का कुल बिजली उत्पादन का 10 प्रतिशत न्यूक्लियर पावर प्लांट से होता है व 16 प्रतिशत हाइड्रो पावर प्लांट से होता है|

  क्या आपको पता है किसी भी ट्रांसफार्मर की इनपुट पर जितनी पावर दी जाती है  लगभगउतनी ही पावर बाहर निकलती है ट्रांसफार्मर के द्वारा केवल वोल्टेज व धारा बढ़ाइए घटाई जा सकती है


गुरुवार, 31 दिसंबर 2020

shaded pole motor in hindi

SHADED POLE MOTOR

    Shaded Pole Motor :-यह मोटर single phase induction मोटर का ही एक अन्य रूप है। बिना shaded pole व्यवस्था के यह मोटर भी स्वत: प्रारम्भ नहीं हो सकता क्योकि तब यह भी एक सामान्य single phase induction motor ही होता है। shaded pole व्यवस्था कर दिए जाने पर इस मोटर में भी सूक्ष्म परिमाण का घूर्णी चुम्बकीय क्षेत्र उत्पन्न हो जाता है जो, शून्य भार (बिना लोड के)पर मोटर को स्वत: प्रारम्भ करने के लिए पर्याप्त होता है।

shaded pole motor in hindi

 इस प्रकार की मोटर की संरचना, कार्यविधि, तथा उपयोग का विवरण निम्न प्रकार है 

संरचना Construction of shaded pole motor  :-

  यह मोटर shaded pole युक्त स्टेटर तथा पिंजर प्रारूपी रोटर से निर्मित होती है। इसके प्रत्येक पटलित ध्रुव core पर एक किनारे से लगभग 1/3 भाग पर एक खाँचा कटा होता है जो ध्रुव नाल या ध्रुव क्रोड के ऊपरी भाग को दो भागों में विभक्त करता है।

shaded pole motor की संरचना

 pole core के छोटे वाले हिस्से में ताँबे की एक मोटी पट्टी स्थित होती है, जो ताम्र छादन वलय (shading coil)  कहलाती है जैसा चित्र में प्रदर्शित है। ध्रुव पर स्थित इस खाँचे के उस ओर का भाग, जिस पर ताम्र shading coil स्थित होती है, ध्रुव का shaded part तथा शेष दूसरा भाग unshaded part कहलाता है।

 मोटर का मुख्य स्टेटर winding जो exciting winding कहलाता है, पूरे pole core पर होता है और इसका संयोजन ठीक वैसा ही होता है, जैसा अन्य single phase मोटरों के स्टेटर winding में होता है।

👉synchronous motor का कार्य सिधांत व उपयोग 

👉अल्टरनेटर क्या है? इससे 50Hz आवृति की ac कैसे उत्पन की जाती है?

👉ट्रांसफार्मर से सम्बन्धी सभी प्रश्नों के उत्तर  

कार्यविधि (Working Method of shaded pole motor):-

   जब मोटर की उत्तेजन कुण्डली(exciting winding) को single फेज ac स्रोत में जोड़ा जाता है तो मोटर के pole के दोनों ही भाग फ्लक्स उत्पन्न करते हैं चूकि shaded भाग में स्थित shaded coil पर विधुत वाहक बल प्रेरित होने के कारण उत्पन्न प्रेरण धारा से प्राप्त होने वाला फ्लक्स, लेंज के नियमानुसार मुख्य फलस्स को प्रभावित करता है और परिणामी फ्लक्स की स्थिति उसी के अनुसार बदलती है, जैसा चित्र में प्रदर्शित है।

shaded pole motor working

main field winding से प्रवाहित विद्युत धारा के क्षण A (SIN WAVE में) में बढ़ती विद्यत धारा के कारण shaded coil पर प्रेरित धारा विपरित फ्लक्स उत्पन्न करती है, जिससे परिणामी फ्लक्स की स्थिति चित्र (a) की भाँति ध्रुव के दाहिनी ओर होती हैं,

 क्षण B में विद्युत धारा परिवर्तन नगण्य होने के कारण shaded coil  का फ्लक्स नगण्य होता है तथा परिणामी क्षेत्र चित्र (b) की भाति pole के केन्द्र पर तथा क्षण C में घटती विद्युत धारा के कारण shaded coil द्वारा उत्पन्न फ्लक्स  main winding द्वारा उत्पन्न फ्लक्स की दिशा में होने के कारण परिणामी फ्लक्स को चित्र (c) की भाँति स्थिति प्रदान करता है।

इस प्रकार shaded pole व्यवस्था में परिणामी फ्लक्स, unshaded भाग से shaded भाग की ओर घूमने लगता है; अर्थात् यहाँ घूर्णी चुम्बकीय क्षेत्र की उत्पत्ति हो जाती है। इस घूर्णी फ्लक्स (rotating flux) से प्रभावित होकर मोटर को प्रारम्भन बलाघर्ण प्राप्त होता है।

उपयोग :-  shaded pole motor का प्रयोग छोटे पंखो ,विधुत घड़ियों,मापन यंत्रो में विशेष रूप से किया जाता है |

hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको '' shaded pole motor  in hindi  '' के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद

 

रविवार, 29 नवंबर 2020

synchronous motor in hindi

SYNCHRONOUS MOTOR

इस पोस्ट में हम synchronous motor की संरचना ,कार्य सिधांत व उपयोय के बारे  में जानेये, साथ में synchronous motor से सम्बंधित प्रश्नं उत्तर के द्वारा अपने औकात को भी  नापेगे  

संरचना Construction:-

ऑल्टरनेटर व सिंक्रोनस मोटर की संरचना लगभग एक समान होती है और सिंक्रोनस ऑल्टरनेटर को भी सिंक्रोनस मोटर की तरह से चलाया जा सकता है। उक्त दोनों ही प्रकार की मशीनों में केवल ऊर्जा परिवर्तन का ही विशेष अन्तर होता है, जो सम्बन्धित मशीन के कार्य-सिद्धान्त (working principle) पर निर्भर करता है।

synchronous motor in hindi


 सिंक्रोनस मोटरों में अति उच्च गति वाले दो पोल(N व S ) वाले रोटर(cylindrical rotors) होता  हैं, जिनके उत्तेजन(चुम्बकित करना, जिससे N व S पोल बने) हेतु, slip rings द्वारा dc  वोल्टता प्रदान की जाती है

synchronous motor in hindi

 सिंक्रोनस मोटरों के स्टेटर में 3 फेज सप्लाई दी जाती है

इसे भी देखे:--

👉अल्टरनेटर से उत्पन धारा की आवृति का निर्धारण कैसे होता है ?

👉Circuit Breaker क्या होता है और कितने प्रकार का होता है?

👉LOGIC GATE क्या है ? XOR GATE, AND GATE, OR GATE,?

👉ट्रांसफार्मर में हानियाँ  क्या है कितने प्रकार की होती है ?

 सिंक्रोनस मोटर कार्य-सिद्धान्त Working Principle:-

चित्र में दो पोल, 3 फेज सिंक्रोनस मोटर प्रदर्शित की गई है। इसकी 3 फेज, दो पोल स्टेटर वाइंडिंग (stator winding) में जब थ्री फेज सप्लाई दी जाती है, तो स्टेटर से घूर्णी चुम्बकीय क्षेत्र (rotating magnetic field) उत्पन्न होता है, जो क्लॉक वाइज डाइरेक्शन में सिंक्रोनस गति से घूमता है।

synchronous motor in hindi

 इस समय स्टेटर के परिणामी धनात्मक स्पंद से उत्तरी पोल N, तथा परिणामी ऋणात्मक स्पंद से दक्षिणी पोल S, उत्पन्न होता है। जब वाउण्ड रोटर में डी०सी० सप्लाई दी जाती है, तो रोटर में उत्तरी N तथा दक्षिणी S चुम्बकीय ध्रुवें उत्पन्न हो जाती हैं। रोटर की इन N S चुम्बकीय ध्रुवों पर स्टेटर के घूर्णी चुम्बकीय क्षेत्र का प्रभाव पड़ता है।

क्यों स्टेटर और रोटर दोनों को सप्लाई दी जाती है?जानने के लिए पूरा पढना पड़ेगा

सिंक्रोनस मोटर के स्टार्ट करने का मूल सिधान्त:-

उर्युक्त चित्र में प्रदर्शित स्थिति के अनुसार:---

  माना कि किसी क्षण पर स्टेटर पर उत्तरी पोल Ns जो स्थिति A पर है, रोटर  के उत्तरी पोल N को विकसित करता है, तो रोटर एन्टि क्लॉक वाइज डाइरेक्शन में घूमने के लिए प्रवृत्त (tends to rotate) होता है; परन्तु जड़त्व (inertia) के कारण, रोटर शीघ्र नहीं घूम पाता। अर्थात् रोटर के घूमने में कुछ समय लगता है।

रोटर घूमने ही वाला था कि तब तक T/2 समय समाप्त हो जाता है; अत: अर्द्ध-चक्र (half cycle) के बाद, स्टेटर की चुम्बकीय पोल परिवर्तित हो जाती है। अर्थात् स्टेटर में उत्तरी पोल Ns के स्थान A पर पोल Ss   सिन्क्रोनस स्पीड से घूमकर आ जाता है और स्टेटर तथा रोटर के ध्रुवों में आकर्षण बल कार्य करने लगता है, जो रोटर को क्लॉकवाइज डाइरेक्शन, अर्थात् विपरीत दिशा में घूमने के लिए प्रवृत्त (tends to rotate) करता है;

परन्तु जड़त्व के प्रभाव से रोटर पुन: शीघ्रता से घूमना आरम्भ नहीं कर पाता, तब तक पुनः अग्रिम स्थिति लागू हो जाती है। इस प्रकार मोटर के अन्दर उत्पन्न प्रत्यावर्ती बलाघूर्ण(घुमाने वाला बल alternating torque) के कारण, रोटर किसी भी दिशा में नहीं घूमता अपितु स्थिर स्थिति (standstill condition) में ही रहता है।

सिंक्रोनस मोटर

   यदि किसी बाह्य बल (external prime mover) द्वारा रोटर को तुल्यकालिक गति(N=120*f/P) के निकट तक घुमा दिया जाए और इसके बाद रोटर में डी०सी० सप्लाई देकर N तथा S चुम्बकाय पोल उत्पन्न किए जाएं, तो स्टेटर तथा रोटर के विपरीत पोल परस्पर आकर्षित हो जाएगा और मोटर, तुल्यकाली गति पर चलने लगेगी। इसके बाद बाह्य बल(external prime mover) को पृथक किया जा सकता है।

उपयोग-  ये मोटरें उन फैक्ट्रियों में पावर फैक्टर बढ़ाने के लिए लगती हैं, जहाँ पर कई इंडक्शन मोटरें लगी रहती हैं, जिससे पावर फैक्टर कम रहता है। ये रबर मिलों, खानों और बड़ी-बड़ी फैक्ट्रियों में मैकेनिकल पावर के लिए भी लगती हैं।


 

quiz in Javascript

अब तक कितना समझे?

सिंक्रोनस मोटर से सम्बंधित प्रश्न उत्तर:-

Question of

Good Try!
You Got out of answers correct!
That's

hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको '' synchronous motor in hindi '' के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद

मंगलवार, 10 नवंबर 2020

भूमिगत केबिलें Underground Cables

 

भूमिगत केबिलें (Underground Cables)

       भूमिगत केबिलों का प्रयोग विद्युत शक्ति के संचरण व वितरण में होता है।

        ऐसे स्थान जहाँ शिरोपरि (Overhead) संचरण या वितरण पद्धति बाधित होता है वहाँ पर भूमिगत केबिलों का प्रयोग किया जाता है।

   वोल्टता, प्रयोग करने की आवश्यकताओं (Requirements) के आधार पर केबिल कई प्रकार के होते हैं।


  भूमिगत केबिलों का वर्गीकरण (Classification of Underground Cables)

  यांत्रिक संरचना व वोल्टता के आधार पर विभिन्न प्रकार के underground cables का प्रयोग किया जाता है।

  प्रायः केबिलों का वर्गीकरण निम्न रूप से किया गया है

(i) निम्न वोल्टता केबिलें (Low Voltage Cables)

(ii) उच्च वोल्टता केबिलें (High Voltage Cables)

(iii) सर्वोच्च वोल्टता केबिलें (Super Tension Cables)

(iv) अतिरिक्त उच्च वोल्टता केबिलें (Extra High Tension Cables)

(v) अतिरिक्त सर्वोच्च वोल्टता केबिलें (Extra Super Tension Cables)

 

(i) निम्न वोल्टता केबिलें:- इन केबिलों का प्रयोग अधिकतम 1 kV वोल्टता के लिये किया जाता है। इसके लिये किसी विशेष संरचना की आवश्यकता नहीं होती है। इसमें विद्युतरोधकों के रूप में संसेचित कागज (Impregnated paper) वार्निश्ड काम्ब्रिक (Varnished cambric), वल्कनाइज्ड रबर (Vulcanized rubber) आदि।

 

(ii) उच्च वोल्टता केबिलें:- इन केबिलों का प्रयोग अधिकतम 11 kV वोल्टता के लिये किया जाता है। ये केबिलें प्रायः गोलाकार (Circular) अथवा अण्डाकार (Oval) होता है। इनमें Standard copper conductor संसेचित कागज (Impregnated paper) से बंधे (Wrapped) होते हैं। संसेचित कागज के ऊपर कवचन (Armouring) के लिये शीसे की परत (Lead sheathed) चढायी जाती है। यह हमारे केबिल के लिये एक सुरक्षित आवरण के रूप के कार्य करता है। अत: इन केबिलों की संरचना विशेष रूप से तैयार किया जाता है।

(iii) सर्वोच्च वोल्टता केबिलें- इन केबिलों का प्रयोग अधिकतम 33 kV वोल्टता के लिये किया जाता है। इनका प्रयोग उच्च संचरण लाइनों में प्रयोग किया जाता है। इसमें उच्च गुणवत्ता विद्युतरोधकों का प्रयोग किया जाता है।

 

(iv) अतिरिक्त उच्च वोल्टता केबिलें-इनका प्रयोग अधिकतम 66 kV तक की वोल्टता के लिये किया जाता है।इनमे high voltage bearing insulators की आवश्यकता होती है।

 

(v) अतिरिक्त सर्वोच्च वोल्टता केबिलें:- इन केबिलों का प्रयोग 132 kV या इससे अधिक voltage के लिये किया जाता है। ये केबिलें high transmission lines में प्रयोग की जाती हैं। इनकी संरचना कुछ विशेष तरह की होती है। इनमें ज्यादा insulating materials प्रयोग होने के कारण इनकी cost ज्यादा आती है।

 👉sag क्या होता है ,sag की गणना कैसे की जाती है

👉कोरोना किसे कहते है और यह कैसे उत्त्पन्न होता है 

केबिलों की सामान्य संरचना (General Construction of Cables)

कम वोल्टता के लिए Single core तथा उच्च वोल्टता के लिए Multi core  केबल का प्रयोग किया जाता है | Multi core आपस में vulcanized bitumen अथवा ससोचत कागज (Impregnated paper) द्वारा बँधे रहते हैं। इनकी संरचना को चित्र में  समझाया गया है।

 

Underground Cables
underground cable

इनमें प्रमुख parts होते हैं जिन्हें निम्न रूप से समझाया गया है

(i) क्रोड (Core)- भूमिगत केबिलें प्राय: single core अथवा multi core types होती हैं। ये प्राय: Copper, Aluminium or Alloy (मिश्र धातु) के होते हैं। ये core सीधे अथवा लड़ीदार होते हैं।

(ii) संसेचित कागज (Impregnated Paper):- केबिल में सभी cores आपस में संसेचित कागज दारा बंधे रहते हैं। इसके लिये प्रायः अन्य पदार्थों जैसे vulcanized bitumen अथवा varnished combric का भी प्रयोग किया जाता है।

(iii) Metallic Sheath- नमी, गैस और विभिन्न प्रकार के क्षतिपूर्ति component से बचाने के लिये इसके ऊपर Aluminium Lead के मिश्रण (Alloy) को लपेटा जाता है। Metallic sheath का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह लचकदार होता है तथा यह उच्च संक्षारण रोधी (Corrosive Resistance) होते हैं। यह परत केबिल को earthing भी प्रदान करता है|

(iv) संस्तरण (Bedding)- Metallic sheath की सुरक्षा के लिये उसके ऊपर paper tape जो की Fibrous Jute, Cotton अथवा hessian tape का यौगिक (Compound) होता है लपेटा जाता है। Bedding की परत armouring की परत के साथ कोई क्रिया (Reaction) नहीं करती है। इसकी परत P.V.C. के रूप में नहीं प्रयोग की जा सकती है।

(v) कवचन (Armouring)- केबिल को यांत्रिक आघात या क्षति (Mechanical injury) से बचाने के लिये उसके bedding परत के ऊपर galvanized steel अथवा steel tape की एक परत का प्रयोग किया जाता है जिसे कि कवचन (Armouring) कहा जाता है। उच्च सुरक्षा (Higher protection) के लिये armouring की double परत चढ़ाया जाता है।

(vi) सेवा आवरण (Serving Layer)- Armoring की परत के ऊपर एक परत चढ़ायी जाती है जो कि fabric material को बनी होती है उसे सेवा आवरण (Serving layer) कहा जाता है। यह cable के सम्पूर्ण अवयवों को सुरक्षा प्रदान करता है। इससे cable देखने में charming and attractive लगते हैं।

      hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको '' भूमिगत केबिलें (Underground Cables)  '' के बारे में संक्षिप्त  जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका  कोई सवाल या सुझाव है तो हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद