यह ब्लॉग खोजें

ELECTRICALहिंदी में slide 1

इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बंधित जानकारी के लिए हमेशा विजिट करे electricalhindime.blogspot.com

ELECTRICALहिंदी में slide 2

इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बंधित जानकारी के लिए हमेशा विजिट करे electricalhindime.blogspot.com

ELECTRICALहिंदी में slide 3

इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बंधित जानकारी के लिए हमेशा विजिट करे electricalhindime.blogspot.com

ELECTRICALहिंदी में SLIDE 4

इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बंधित जानकारी के लिए हमेशा विजिट करे electricalhindime.blogspot.com

ELECTRICALहिंदी में slide 5

इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स से सम्बंधित जानकारी के लिए हमेशा विजिट करे electricalhindime.blogspot.com

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2019

Air Circuit Breaker क्या है और कितने प्रकार का होता है


वायु झोंका सर्किट ब्रेकर(Air Blast Circuit Breaker)

  Air Blast Circuit Breaker  क्या है ?(  Air Blast Circuit Breaker in hindi)

   इस प्रकार के सर्किट ब्रेकर उच्च दाब पर कार्य करते हैं। वायु  झोंको का प्रयोग आर्क (ज्वाला )को बुझाने के लिए किया जाता है। ब्लास्ट वाल्व के द्वारा वायु झोंका को दोनों सम्पर्कों(contact) के बीच प्रवाहित किया जाता है। इस स्थिति में दोनों सम्पर्क खुले रहते हैं। वायु का झोंका आर्क को ठण्डा करता है और आर्क में उपस्थित आर्किंग पदार्थों को हटाता है। इसमें दोनों सम्पर्कों के बीच उपस्थित वायु का di-electric strength बहुत तेजी से बढ़ता है और आर्क को बुझा देता है।
air circuit breaker  in hindi
इसे भी देखे 
  वायु झोंका सर्किट ब्रेकर के निम्न लाभ हैं-
   (i) इस circuit breaker में आग लगने का कोई खतरा नहीं होता है।

  (ii) आर्किंग पदार्थों को वायु झोंका के द्वारा पूर्णतः हटाया जा सकता है जबकि तेल सर्किट ब्रेकर में हर प्रचालन(ऑपरेशन) के पश्चात तेल का अपघटन होता है जिससे तेल की di-electric strength घट जाती है और तेल को बदलना पड़ता है परन्तु air blast circuit breaker में ऐसा नहीं है।

 (iii) एयर ब्लास्ट सर्किट ब्रेकर का आकार अपेक्षाकृत छोटा होता है।

 (iv) दोनों सम्पर्कों के मध्य di-electric strength का मान अत्यधिक तेजी से बढ़ता है जिसके कारण आर्किंग समय बहुत ही कम हो जाता है।
   अर्थात् इस सर्किट ब्रेकर में आर्किंग ऊर्जा, तेल सर्किट ब्रेकर की अपेक्षा बहुत कम होती है, जिसके कारण इस सर्किट ब्रेकर के सम्पर्क जल्दी नहीं जलते हैं।

 (v) आर्किंग ऊर्जा की कमी होने के कारण ये circuit breaker उन स्थानों पर अत्यधिक उपयोगी होते हैं जहाँ तेज प्रचालन की आवश्यकता होती है।

हानियाँ (Disadvantages)

1. वायु में आर्क को बुझाने की घटिया गुण होता है।
2. air blast circuit breaker बहुत ही संवेदनशील होते हैं।
3. वायु झोंका प्रवाह के लिए अलग से एक conpressor plant की आवश्यकता होती है जिससे इसकी किमत बढ़ जाती है।

इसे भी देखे-

Air circuit Breaker कितने प्रकार का होता है ?

वायु झोंका के प्रवाह की दिशा के आधार पर एयर  सर्किट ब्रेकर निम्न type के होते हैं-
1. Axial Blast Type
2. Cross Blast Type
3. Radial Blast Type
Axial blast type सर्किट ब्रेकर में वायु की दिशा आर्क की ही दिशा में होती है।
Cross Blast Type सर्किट ब्रेकरमें वायु की दिशा आर्क की दिशा के लम्बवत् (90° पर) होती है
जबकि Radial Blast type सर्किट ब्रेकर में वायु की दिशा Radilly होती है।

 hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको ''air circuit breaker क्या  होता है  और कितने प्रकार का होता है |'' के बारे में संक्षिप्त  जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका  कोई सवाल या सुझाव है तो हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद

इसे भी  देखे 




गुरुवार, 26 दिसंबर 2019

Oil Circuit Breaker क्या है और कितने प्रकार का होता है


तेल सर्किट ब्रेकर(Oil Circuit Breaker)

  इस पोस्ट में आप oil circuit breaker के बारे में जानेगे तथा साथ ही oil circuit breaker के प्रकार (types of oil circuit breaker ) ,(i) Bulk Oil circuit  Breaker (ii) Low Oil circuit Breaker ,1. Plain Break Oil circuit breaker Breaker ,2. Arc Control Oil circuit breaker  Breaker

आयल सर्किट ब्रेकर क्या है (oil circuit breaker in hindi)
oil circuit breaker in hindi




   oil circuit breaker में आर्क को बुझाने के लिए विद्युतरोधी माध्यम के रूप में विद्युतरोधी तेल का प्रयोग किया जाता है। सर्किट ब्रेकर के दोनों सम्पर्क तेल में ही खुलते हैं।
जैसे ही दोनों सम्पर्क एक-दूसरे से अलग होते हैं तो आर्क उत्पन्न होता है जिसके कारण सम्पर्क के चारों तरफ उपस्थित तेल का तापमान बढ़ जाता है और दाब पर हाइड्रोजन गैस उत्पन्न होती है। यह हाइडोजन गैस चारों ओर फैल जाती हैं।
हाइड्रोजन गैस के बुलबुलों के दो कार्य होते हैं
1. हाइड्रोजन गैस को ऊष्मा चालकता अधिक होती है जिसके कारण यह आर्क की ऊर्जा को अवशोषित करता है।
2. शीतलन का कार्य करता है।
इस तराक से हाइड्रोजन गैस के उत्पन्न हो जाने से आर्क बुझ जाता है क्योंकि वह आर्क की ऊष्मा का तुरन्त अपने अन्दर अवशोषित कर लेता है।
oil circuit breaker in hindi
oil circuit breaker 




  • INDUCTION MOTOR क्या है, संरचना  कार्य विधि और  उपयोग 


  • तेल सर्किट ब्रेकर के प्रकार (Type of Oil circuit Breaker)

    Oil circuit breaker को निम्नलिखित भागों में बाँटा जा सकता है
    (i) Bulk Oil circuit  Breaker
    (ii) Low Oil circuit  Breaker

    (i) अम्बार अथवा ढेर तेल सर्किट ब्रेकर(Bulk Oil circuit Breaker)-

       इस प्रकार के circuit breaker  में तेल की अधिक मात्रा प्रयोग की जाती है

    इस प्रकार के circuit breaker में तेल के मुख्यत दो कार्य है -
    a)   fault के समय में आर्क (ज्वाला) को बुझाना।
    b)   चालकों व Tank को एक-दूसरे से विद्युतरोधी करना।
    इस टाइप के सर्किट ब्रेकर को निम्न भागों में बाँटा गया है

    1. Plain Break Oil circuit  Breaker
    2. Arc Control Oil circuit  Breaker
    (इसको बस यही छोड़ देते है नही तो यह आर्टिकल बहुत बड़ा हो जायेगा )

    (ii) कम तेल सर्किट ब्रेकर (Low Oil circuit Breaker)-

     Low oil circuit breaker में तेल की कम मात्रा प्रयोग की जाती है। इस प्रकार के circuit breaker में तेल का प्रयोग केवल आर्क (ज्वाला)  को बझाने के लिए किया जाता है। अन्य भाग को बिधुतरोधित करने के लिए हम वायु अथवा Organic Insulating Material  का प्रयोग करते हैं।


     hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको '' oil circuit breaker in hindi एंड  types of oil circuit breaker '' के बारे में संक्षिप्त  जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका  कोई सवाल या सुझाव है तो हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद
    इसे भी देखे

    SF6 CIRCUIT BREAKER IN HINDI

    SF6 circuit breaker in hindi (Sulphur Hexa Fluoride Cricuit Breaker)

    इस पोस्ट  sf6 circuit breaker in hindi  में हम  sf6 circuit breaker क्या है , SFcircuit breaker की संरचना,SF6 Circuit Breaker की कार्य विधि, SF6 Circuit Breaker लाभ ,SF6 Circuit Breaker की हानियाँ ,SFCircuit Breaker का अनुप्रयोग etc के बारे में जानेगे 

    SF6 circuit breaker क्या है ?
    sf6 circuit breaker in hindi

      SF6 circuit breaker में आर्क को बुझाने के लिए SF6 गैस का प्रयोग किया जाता है। SF6 एक इलेक्ट्रो-नेगेटिव गैस है जिसके अन्दर मुक्त इलेक्ट्रॉन को अवशोषित करने की बेजोड़ शक्ति होती है।
      सर्किट ब्रेकर के सम्पर्क उच्च दाब के SF6 गैस के अन्दर खुलते हैं। जैसे ही दोनों सम्पर्क एक-दूसरे से अलग होते हैं आर्क उत्पन्न होता है। आर्क में उपस्थित मुक्त इलेक्ट्रॉन SF6 गैस के द्वारा तेजी से अवशोषित कर लिया जाता है। मुक्त इलेक्ट्रॉन के अवशोषित हो जाने के कारण उच्च प्रतिरोध उत्पन्न होता है, जिससे आर्क बुझ जाती है।
     SF6 सर्किट ब्रेकर का प्रयोग उच्च वोल्टता वाले स्थानों पर किया जाता है।

    SF6 circuit breaker की संरचना-

      SF सर्किट ब्रेकर की संरचना नीचे दिखायी गयी है। इसमें चल तथा अचल सम्पर्क एक चैम्बर में होते हैं जिसे Interruption चैम्बर कहते हैं। इस चैम्बर में SF6 गैस भरी होती है। यह चैम्बर SF6 गैस के Reservoir से जुड़ा होता है। जब सम्पर्क एक-दूसरे से अलग होते हैं तो गैस Reservoir से SF6 गैस High Pressure पर निकलती है और Arc के ऊपर प्रहार करती है।
    sf6 circuit breaker in hindi
    sf6  circuit breaker
     चल सम्पर्क, अचल सम्पर्क व आर्किंग हॉर्न के टिप (नोक) कॉपर-टंगस्टन के धातु से कोटेड होते हैं जो कि आर्क रजिस्टेन्स पदार्थ होते हैं। चूंकि SF6 गैस अत्यधिक महँगी है अत: इसके प्रत्येक प्रचालन के पश्चात् इसका किसी बाहरी उपयन्त्र के द्वारा शुद्धिकरण कर पुन: उपयोग में लाया जाता है।

    SF6 Circuit Breaker की कार्य विधि (Working)—

     सर्किट ब्रेकर के बन्द अवस्था में गैस का दाब 2.8 kg/cm2 होता है। जब सर्किट ब्रेकर का चल सम्पर्क स्थिर सम्पर्क से अलग होता है तो दोनों सम्पर्कों के मध्य आर्क(ज्वाला) उत्पन्न होता है। चल सम्पर्क के गति अवस्था में आने पर वाल्व खुल जाता है। वाल्व के खुलते ही SF6 गैस उच्च दाब - 14 kg/cm2 पर गैस reservoir से आर्क Interruption चैम्बर में आता है। उच्च दाब पर SF6 गैस बहुत ही तेजी से मुक्त इलेक्ट्रॉन को अवशोषित कर लेता है जिसके कारण सम्पकों के बीच का di-electric strength बढ़ जाता है और आर्क बुझ जाती है। ऑपरेशन के बाद वाल्व स्वयं एक स्प्रिंग द्वारा बन्द हो जाता है।

    SF6 Circuit Breaker लाभ -

     SF परिपथ वियोजकों का अन्य परिपथ वियोजकों की अपेक्षा निम्न लाभ हैं
     (i) आर्क को बुझाने के अच्छे गुण के होने के कारण इन circuit breaker का आर्किंग समय बहुत कम होता है।

    (ii) SF6 गैस की di-electric strength, Air की अपेक्षा 2 से 3 गुना अधिक होती है जिसके कारण ये सर्किट ब्रेकर उच्च धाराओं को भी बाध्य कर सकते हैं।

    (iii) SF6 सर्किट ब्रेकर का प्रचालन शान्तिपूर्ण होता है।

    (iv) इसका प्रचालन एक बन्द चैम्बर में होने के कारण इसमें नमी आने की सम्भावना बहुत कम होती है।

    (v) इस सर्किट ब्रेकर में आग लगने का कोई खतरा नहीं होता है क्योंकि SF6 गैस अज्वलनशील होता है।

    SF6 Circuit Breaker की हानियाँ -


    1. SF6 गैस का मूल्य अधिक होने के कारण SF6 सर्किट ब्रेकरअत्यधिक महँगे पड़ते हैं।
     2. प्रत्येक ऑपरेशन के पश्चात् SF6 गैस की शुद्धिकरण के लिए एक अतिरिक्त यंत्र की आवश्यकता पड़ती है।

    SF6 Circuit Breaker का अनुप्रयोग

      SF6 सर्किट ब्रेकर का प्रयोग उच्च धारा 60 kA तक व उच्च वोल्टता 50-80 kV तक के लिए किया जाता है। SF6 circuit breaker का निर्माण 113 kV से 230 kV की वोल्टता जिनकी पॉवर रेटिंग 10 MVA से 20 MVA के लिए किया गया है। इन circuit breaker का आर्किंग समय 3 cycle से भी कम होता है। 


     hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको ''sf6 circuit breaker in hindi '' के बारे में सारी जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका  कोई सवाल या सुझाव है तो हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद

    इसे  भी देखे -

    बुधवार, 25 दिसंबर 2019

    Vacuum Circuit Breaker in hindi ,vcb breaker in hindi


    निर्वात् सर्किट ब्रेकर(Vacuum Circuit Breaker (VCB)

       क्या आप vacuum circuit breaker in hindi  or vcb breaker in hindi के बारे में जानना चाहते है? यदि हां तो मै इस पोस्ट में vacuum circuit breaker(vcb) के बारे में विस्तृत जानकरी शेयर कर रहा हूँ \
    vcb  breaker in hindi

    VCB क्या होता है?(Vacuum Circuit Breaker in hindi)

       vacuum circuit breaker में आर्क को बुझाने के लिए माध्यम के रूप में निर्वात का प्रयोग करते हैं। इसमें निर्वात् की degree 10-7 से 10-5 Torr तक होती है। इस प्रकार निर्वात उच्च विद्यतरोधन क्षमता प्राप्त करता है। इसके अन्दर आर्क को बुझाने का सबसे अच्छा गुण होता है।
      जब सर्किट ब्रेकर के सम्पर्क निर्वात् में खुलते हैं तो बाधा के कारण प्रथम अर्ध-चक्र में ही धारा का मान शून्य हो जाता है, क्योंकि सम्पर्कों के बीच में dielectric strength अन्य सर्किट ब्रेकर की अपेक्षा हजार गुना अधिक बढ़ जाता है।



    VCB का कार्य सिद्धान्त (Principle of VCB)-

       जब सर्किट ब्रेकर के सम्पर्क निर्वात् 10-7 to 10-5 torr में खुलते हैं, तो दोनों सम्पर्कों के मध्य आर्क उत्पन्न होता है। आर्क उत्पन्न होने से सम्पर्कों के metal का वाष्पन होने के कारण माध्यम आयोनाइज्ड हो जाता है। फिर भी आर्क बहुत तेजी से बुझ जाती है, क्योंकि जो धात्विक वाष्प होता है वह निर्वात् के अन्दर बहुत तेजी से संघनित हो जाते हैं और पुन: सम्पर्कों पर जमा हो जाते हैं जिसका परिणाम यह होता है कि बहुत ही तेजी से dielectric strength बढ़ती है।

    Vacuum Circuit Breaker की  संरचना (Construction of VCB)-

      चित्र में Vacuum Circuit Breaker को दिखाया गया है। इस सर्किट ब्रेकर में एक निर्वात चैम्बर होता है जिसके अन्दर चल सम्पर्क, स्थिर सम्पर्क व आर्क शील्ड लगे होते हैं। चल सम्पर्क एक नियंत्रित मशीनी क्रियाविधि के द्वारा स्टेनलेस स्टील की Bellow से जुड़ा होता है। इस समायोजन का प्रयोग किसी प्रकार के लीकेज को रोकने की दृष्टि से किया गया है।
    vcb breaker in hindi
    vacuum circuit breaker 

    एक काच के बर्तन  या चीनी मिट्टी के वर्तन का प्रयोग बाहरी Body को विद्युतरोधी करने के लिए किया गया है। आर्क शील्ड, धातु के वाष्प को इकट्ठा करने के लिए प्रयोग किया गया है।


     Vacuum Circuit Breaker का कार्य विधि-

       जब परिपथ का प्रचालन होता है अर्थात सामान्य अवस्था में स्थिर सम्पर्क से चल सम्पर्क अलग नहीं होता है। जैसे ही दोनों सम्पर्क एक-दूसरे से अलग होते हैं, दोनों सम्पर्कों के मध्य आर्क उत्पन्न होती है।
      आर्क की उत्पत्ति धातु के आयोनाइजेशन होने के कारण होती है। यह आर्क बहुत ही जल्दी बुझ जाती है क्योंकि जो वाष्प धातु होती है वह अति शीघ्र संघनित होकर सम्पर्कों की सतह पर अथवा आर्किंग शील्ड पर जम जाती है जिसके कारण निर्वात् की di-electric strength बहुत तेजी से बढ़ जाती है और आर्क बुझ जाती है। इस कार्य के होने में अत्यन्त कम समय लगता है।

    VCB को परिपथ में लगाने के लाभ-

    1. vacuum circuit breaker विश्वश्नीय तथा अधिक आयु वाले होते हैं।
    2. आग लगने का कोई खतरा नहीं होता।
    3. ओपरेशन के समय किसी प्रकार की कोई गैस उत्पन्न नहीं होती है।
    4. कम maintenace की आवश्यकता होती है।
    5. इनमें Arc energy low होती है।(arc=ज्वाला)
    6. ये आसानी से आकाशीय बिजली को सह सकते हैं।

    अनुप्रयोग (Applications)

    vacuum circuit breaker का प्रयोग उन स्थानो पर किया जाता है  जहाँ पर पहुँचना उतना आसान नहीं होता, । vacuum circuit breaker का प्रयोग Outdoor Application में किया जाता है। इनकी Range 22 kV से 66 kV तक होती है परन्तु आवश्यकता पड़ने पर विशेष अवस्था में 60 से 100 MVA तक के लिए प्रयोग कर सकते हैं।
    निर्वात सर्किट ब्रेकर का प्रयोग ज्यादातर दूरस्थ गाँवों व कस्बों के लिए किया जाता है।

      hello दोस्तों इस पोस्ट में हमने आपको ''vacuum circuit breaker  in hindi or vcb breaker in hindi '' के बारे में  जानकारी दी है इसके अलावा अगर आपका  कोई सवाल या सुझाव है तो हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं और इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें, धन्यवाद
    इसे भी देखे